एक साथ 70 फिल्म साइन करने वाले हीरो नंबर 1 गोविंदा की एक गलती से हो गया था करियर खत्म।

बॉलीवुड के सबसे प्रतिष्ठित अभिनेता गोविंदा ने अपनी कई ब्लॉकबस्टर फिल्मों के साथ एक दशक से अधिक समय तक प्रशंसकों का मनोरंजन किया है। अभिनेता, 90 के दशक के दौरान, एक ही समय में कई फिल्मों में काम करने के लिए जाने जाते थे और कहा जाता था कि वह अपने युग के दौरान बी-टाउन के सबसे बैंक योग्य अभिनेताओं में से एक थे।

साइन की 70 फिल्म एक साथ

खैर, यह 1987 की बात है जब अभिनेता ने अपने एक साक्षात्कार के दौरान पहली बार कई फिल्मों में काम करने की बात कही थी। कहा जाता है कि उनके एक इंटरव्यू में जो उनकी फिल्म “घर में राम गली में शाम” की शूटिंग के दौरान हुआ था। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि उस समय के दौरान, गोविंदा के कई परियोजनाओं पर काम करने की कई अफवाहें थीं। उन अफवाहों के बारे में बात करते हुए, अभिनेता ने कबूल किया कि उन्होंने एक समय में कुल 70 फिल्में साइन की थीं।


गाने में माहिर थे गोंविदा

कम लोग इस बात को जानते होंगे कि गोविंदा ना सिर्फ एक अच्छे एक्टर और डांसर हैं, बल्कि वह एक शानदार गायक भी हैं। गोविंदा ने संगीत निर्देशकों आनंद मिलिंद और आनंद राज आनंद और पार्श्व गायक उदित नारायण के साथ भी काम किया है। कई बार बॉलीवुड के राजा बाबू अपने इस हुनर का परिचय दे चुके हैं। उन्होंने ‘आंखें’, ‘हसीना मान जाएगी’ और ‘शोला और शबनम’ जैसी फिल्मों में अपनी आवाज का जादू चलाया।


क्यूं की थी गुपचुप शादी?

बॉलीवुड के सुपरस्टार गोविंदा ने अपनी पत्नि से पहली बार शादी चुपके से की थी। उन्होंने साल 1987 में सुनीता से लव मैरिज की थी। इसके बाद 49 साल की उम्र में गोविंदा ने पूरे रीतिरीवाज के साथ एक बार फिर से सुनीता के साथ सात फेरे लिए थे। इंटरव्यू में गोविंदा ने बताया कि उन्होंने ऐसा अपनी मां के कहने पर किया था क्योंकि उनकी मां ज्योतिषि पर काफी भरोसा करती हैं। इसलिए उनकी इच्छा थी कि वो 49 की उम्र में फिर सुनीता से शादी करें।

राजनीति मैं भी जमकर नाम कमाया

गोविंदा 2004 से 2009 तक भारत की संसद के सदस्य थे। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के हिस्से के रूप में, उन्हें 2004 में 14 वीं लोकसभा चुनाव में भारत के महाराष्ट्र के मुंबई उत्तर निर्वाचन क्षेत्र के लिए संसद के 7 वें सदस्य के रूप में चुना गया था, जिसमें उन्होंने राम को हराया था। भारतीय जनता पार्टी के नायक।आखिरकार उन्होंने राजनीति छोड़ दी ।इस बात का दुख गोविंदा को अभी तक है क्योंकि यदि वो राजनीति में नहीं जाते तो शायद आज भी पर्दे पर उनका ही जलवा उसी तरह बना रहता।

+