चिड़िया घर में शेरो की ऐसी हालत देख लोगो की आँखों से छलका पानी, कंकाल हो चुके है जंगल के राजा

अंतरराष्ट्रीय वन्यजीव संरक्षणवादियों की एक टीम ने जानवरों की स्थिति की रिपोर्ट के बाद दुनिया भर में आक्रोश के बाद एक चिड़ियाघर में खट्टे बीमार शेरों के स्वास्थ्य का आकलन करने के लिए खार्तूम, सूडान के लिए उड़ान भरी। स्थानीय फ़ोटोग्राफ़र अशरफ़ शाज़ली द्वारा खींची गई तस्वीरों में नर और मादा शेरों को उनकी हड्डियों और कशेरुकाओं के साथ दिखाया गया है।

ऐसी थी शेरो की हालत

इस महीने की शुरुआत में जानवरों की तस्वीरें वायरल हुई थीं, जिसमें उन्हें क्षीण और हिलने-डुलने के लिए संघर्ष करते हुए दिखाया गया था। कुछ जानवरों के शरीर पर खुले घावों के उपचार न होने के कारण मक्खियों का झुंड लग गया। कथित तौर पर 2018 के अंत में शुरू हुई राजनीतिक और आर्थिक उथल-पुथल के महीनों में जानवरों को छोड़ दिया गया था। पिछले हफ्ते उनके कमजोर स्वास्थ्य की रिपोर्ट सामने आने के बाद एक शेरनी की मौत हो गई थी।

लोगो ने शुरू किया आंदोलन

विदेशी मुद्रा की कमी के कारण देश भर में खाद्य कीमतों में वृद्धि के बाद, क्षीण बड़ी बिल्लियाँ भोजन या दवा के बिना हफ्तों से पीड़ित हैं, और उनके शरीर के वजन का लगभग दो-तिहाई हिस्सा कम हो गया है। #SudanAnimalRescue नामक एक अभियान ने पार्क से ‘कुपोषित और बीमार’ शेरों को ले जाने का आह्वान किया है। सूडान के एक दुःस्वप्न चिड़ियाघर में गंदे पिंजरों में रखे गए पांच भूखे शेरों में से एक की मृत्यु हो गई क्योंकि शेष चार जानवरों को बचाने का अभियान गति पकड़ रहा था।

ये है प्रशासन का कहना

पार्क के अधिकारियों और चिकित्सकों ने कहा कि पिछले कुछ हफ्तों में शेरों की स्थिति खराब हो गई है, कुछ के शरीर का वजन लगभग दो-तिहाई कम हो गया है। अल-कुरैशी पार्क के एक प्रबंधक एस्सामेल्डिन हज्जर ने कहा, “खाना हमेशा उपलब्ध नहीं होता है, इसलिए अक्सर हम उन्हें खिलाने के लिए अपने पैसे से खरीदते हैं।”

पार्क का प्रबंधन खार्तूम नगर पालिका द्वारा किया जाता है, लेकिन निजी दाताओं द्वारा भी वित्त पोषित किया जाता है। खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों और विदेशी मुद्रा की कमी के कारण सूडान एक बिगड़ते आर्थिक संकट के बीच में है।

+