पति को छोड़ मायके में क्यों रहती है अमिताभ बच्चन की बेटी श्वेता बच्चन नंदा

बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चन अपनी बेटी श्वेता बच्चन नंदा  से कितना प्यार करते हैं, ये बात किसी से छिपी नहीं है। हालांकि, बच्चन परिवार की लाडली भी अपने पैरंट्स के लिए प्यार और केयर शो करने का कोई मौका नहीं छोड़ती हैं। वह न केवल हर समय अपने परिवार के साथ टच में रहती हैं बल्कि उनके साथ जिंदगी का हर खास मौका व स्पेशल इवेंट्स सेलिब्रेट करती हैं। इस वजह से उनका सोशल मीडिया भी जलसा में ली गई तस्वीरों से पटा रहता है। अपनी फैमिली के साथ इस तरह हमेशा स्पॉट होना और ज्यादातर समय मां-पाप के संग जलसा में नजर आना, कई लोगों के नेगेटिव कॉमेंट्स को न्योता देता है। कुछ ट्रोलर्स ऐसे भी दिखते हैं, जो ये तक सवाल उठा देते हैं कि श्वेता ससुराल से दूर मायके में ही क्यों दिखाई देती है? वहीं कुछ ये भी कहने से बाज नहीं आते कि श्वेता तो पति की जगह हमेशा अपने पैरंट्स के साथ ही रहती है।

अमिताभ बच्चन की बेटी श्वेता बच्चन नंदा पति को छोड़ क्यों रहती है मायके में,  कितनों को

पति की कमाई पर नहीं निर्भर

श्वेता बच्चन अपने ससुराल से जरूर दूर रहती हैं, लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि उन्हें अपने पति से किसी तरह की कोई दिक्कत है। दरअसल, श्वेता बच्चन और निखिल नंदा दोनों ही अलग-अलग प्रफेशन से आते हैं, जिस वजह से इस कपल को साथ में भी कम ही स्पॉट किया जाता है। श्वेता जहां लेखक-मॉडल और फैशन डिजाइनर हैं, तो वहीं उनके पति निखिल नंदा एस्कॉर्ट्स ग्रुप के वर्तमान मैनेजिंग डायरेक्टर हैं।

amitabh bachchan-shweta bachchan: Why Parents marrying daughter before than  son - अमिताभ बच्चन ने इसलिए जल्दी कर दी थी श्वेता की शादी, बेटे से पहले  बेटी के हाथ क्यों पीले कर देते

करियर बनाने की चाह

श्वेता जब महज 21 साल की थीं, तब उनकी शादी कर दी गई थी। उन्होंने अपनी मैरिड लाइफ को परफेक्ट बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी। दोनों बच्चों के जन्म के बाद वह पूरी तरह उनकी केयर में लगी रहीं। उन्होंने अपने विवाह के करीब 10 साल बाद खुद का करियर बनाया। श्वेता ने अपने लिए जो करियर चुना, उसके लिए उन्हें दिल्ली से मुंबई शिफ्ट होना ही पड़ा।

Why shweta bachchan lives with her parents separately from her husband - पति  को छोड़ मायके में क्यों रहती है अमिताभ बच्चन की बेटी श्वेता बच्चन नंदा -  Navbharat Times

हमारा समाज कितना भी क्यों न बदल रहा हो, लेकिन शादी के बाद लड़कियों का ज्यादा दिन अपने पिता के घर में रहना या उनसे बार-बार मिलने जाना आज भी सही नहीं माना जाता है। अगर लड़की एक-दो महीने तक अपने पैरेंट्स के साथ उनके घर में रह जाती है, तो लोगों के बीच इस बात को लेकर चर्चा तेज हो जाती है कि उसके ससुराल में सब कुछ सही नहीं चल रहा है या उसके अपने पति से रिश्ते अच्छे नहीं हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि शादी के बाद लड़की की पहचान उसके पति से ही कर दी जाती है। वहीं लड़का अगर ऐसा करे, तो उसे केयरिंग माना जाता है।
+